मुखपृष्ठ
इतिहास
हमारे बारे में
सुविधाएं
प्रसारण घंटे
स्टॉफ़
आरटीआई सूचना
आंकड़े
हमसे संपर्क करें


:: संक्षिप्त इतिहास ::

एमिसोर-दी-गोवा: 
गोवा में ब्राडकास्ट प्रसारण का विकास पुर्तगाली औपनिवेशिक शासकों द्वारा किया गया था और इसका एक रोचक इतिहास है। जुझे फारिया मार्टिन्स, एक रेडियो शौकीन थे उन्होंने कुछ उत्साही युवाओं के एक समूह को एक छोटा सा ट्रांसमीटर दिया। इस उपहार से प्रोत्साहित होकर इन युवाओं ने नारियल के खोल से बाहरी आवरण बनाकर एक माइक्रोफोन का निर्माण किया और पणजी टेलीग्राफ स्टेशन के एक इंजीनियर, विक्टर कार्वाल्हो के तकनीकी मार्गदर्शन में प्रसारण शुरू कर दिया। पहला प्रायोगिक प्रसारण 28 मई, 1946 को किया गया और उसी दिन गवर्नर जनरल डॉ. जुझे फारिया बेसा ने इस अवसर की स्मृति में एक विशेष डाक टिकट जारी किया। 25 जुलाई, 1946 को एक सरकारी आज्ञप्ति जारी की गई कि एमिसोर-दी-गोवा नामक रेडियो स्टेशन 5 केडब्ल्यू एसडब्ल्यू पर प्रायोगिक तौर पर औपचारिक रूप से कार्य करेगा, परन्तु सन् 1959 तक रेडियो स्टेशन को जब तक कि इसे संचार के एक प्रभावी माध्यम के रूप में संभावित और व्यावसायिक विज्ञापन से राजस्व प्राप्त करने का एक स्रोत नहीं समझा गया औपचारिक आधिकारिक दर्जा नहीं दिया गया था। उस समय 1959 में, 10 किलोवाट का एक ट्रांसमीटर एसडब्ल्यू, विदेशी सेवा के लिए अधिग्रहीत किया गया था, और दमन और दीव के कवरेज सहित घरेलू सेवा के लिए दो 20 किलोवाट के एमडब्ल्यू ट्रांसमीटर भी मिले थे। हालांकि, इन उच्च शक्ति ट्रांसमीटरों का उपयोग केवल आधिकारिक तौर पर ही किया जाता था न कि व्यावसायिक उपयोग के लिए। 1960 में, एक 50 किलोवाट, एसडब्ल्यू ट्रांसमीटर को अधिग्रहीत किया गया और एमिसोर-दी-गोवा की विदेशी सेवा के लिए 19 मीटर पर संचालित किया गया।

पत्रकार पॉल फांटिस और व्यवसायी गेब्रियल मार्टिंस ने सरकार द्वारा उनको दिए वार्षिक अनुदान के माध्यम से व्यावसायिक सेवा संचालित की थी। 1959 तक कार्यक्रम का समय दो वर्गों द्वारा साझा किया जाता था- एक आधिकारिक अनुभाग जो ट्रांसमीटर का उपयोग सुबह 7 बजे से अपरान्ह 1 बजे तक और सायं 7 से 8 बजे तक करता था; दूसरा व्यावसायिक अनुभाग जो अपरान्ह 1 बजे से सायं 7 बजे तक और फिर रात्रि 9 से 10 बजे तक इसका उपयोग करता था। . 

गोवा में मुक्ति आंदोलन के समय पणजी में एमिसोर-दी-गोवा रेडियो स्टेशन ने 18 दिसंबर, 1961 की सुबह आठ बजे प्रसारण बंद कर दिया था। इसके बाद, 19 दिसंबर, 1961 को गोवा आजाद हुआ था।.

 


Contents owned and updated by All India Radio Panaji, Goa
Website designed and Hosted by National Informatics Centre, Goa